Tuesday, March 13, 2012

मौज फकीरी आ जाये तो होम करें सब कुछ



ना ही मन ने हमारी मानी,ना हमने मन की
इच्छाओं पर नहीं लुटायीपूंजी जीवन की
मौज फकीरी आ जाये तो होम करें सब कुछ


यही रही गति नियति हमारे मरूथल जीवन की

No comments: