Wednesday, April 04, 2012

महावीर जयंती


जब मनुष्यता घायल होती पशुता हंसती है
दानवता के अट्टहास से धरती धंसती है
नही बांटता दीन दुखी की जब कोई भी पीर
स्मित अधरों पर लेकर के आ जाते महावीर





















महावीर जयंती की कोटि -कोटि बधाइयां

No comments: